+91 9810398128

info@pridemybaby.com

+91 9810398128

a9@urag@gmail.com 0 items - $0.00

दोस्ती - ये कहानी दो पंछियो की खूबसूरत दोस्ती को दर्शती है ।

दोस्ती - ये कहानी दो पंछियो की खूबसूरत दोस्ती को दर्शती है ।


दोस्ती। .....

ये कहानी दो पंछियो की खूबसूरत दोस्ती को दर्शती है । एक शहर के दूर जंगल में एक पेड़ पर दो गोरैया का जोड़ा रहता था , उनका नाम था चीकू और चिनमिन! वो दोनों हमेशा साथ रहते थे और एक साथ बहुत ही खुश भी रहते थे । सुबह होते ही दोनों दान चुगने के लिए निकल जाया करते थे और शाम होते ही अपने घोंसले में वापस आ जाते थे , कुछ समय के बाद चिनमिन ने अंडे दिए । तो चीकू और चिमनी की ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा । दोनों बड़ी बेसब्री से अपने बच्चो के अंडे से बाहर निकलने का इंताजर करने लगे । अब चिन्मय अंडो को सेती थी और चीकू अकेला ही दाना चुगने के लिए जाता था ।

 

एक दिन एक हाथी धुप से बचने के लिए उस पेड़ के नीचे आके बैठ  गया । उस पेड़ की ठंडी छाया में बैठ कर वो हाथी मगन हो कर वह अपनी सूंड़ से उस पेड़ को हिलाने लगा! पेड़ के हिलाने से एक छोटी डाली वही टूट के गिर गई , जिस पर चीकू और चिनमिन का घोसला था और घोसले में रखे सरे अंडे भी वही फुट गए । अपने अंडे तीते हुए देख कर चिनमिन जोर-जोर से रोने लगी । उसके रोने की आवाज सुनके , चीकू और चिनमिन का दोस्त भालू----- उसके आपस आया और उस से रोने का कारण पूछने लगा ।

 

चिनमिन से सारी बात सुनकर भालू को बहुत दुःख हुआ । फिर उन दोनों को धीरज देते हुए भालू ------ बोला, " अब रोने से भी कोई फायदा नहीं होगा , जो होना था सो हो चूका "!  चीकू बोला , " भालू भाई , बात तो आप बिलकुल तक बोल रहे हो लेकिन इस दुर्ष्ट हाथी ने तो अपने घमंड में आकर हमारे बचो की जान ले न । इसको इसका दंड तो जरूर मिलना चाहिए । अगर आप हमारे सच्चे दोस्त हो तो आप उस हाथी को मारने में हमारी मदद जरूर करंगे ! "  चीकू की ये बात सुनकर थोड़ी देर के लिए तो भालू सोच में पड़ गया की कहाँ हम छोटे-छोटे पक्षी और कहा वो इतना विशाल जानवर । फिर भालू बोला , "चीकू दोस्त , तुम बिलकुल सही बोल रहे हो इस हाथी को जरूर सबक सीखना चाहिए । अब देखते जाओ तुम मेरी अक्ल का कमाल, में अपनी दोस्त वीना माखी को भी  लेता हु!  इस काम में वो हमारी मदद करेगी और इतना कहे कर वह चला गया!

 

भालू ने अपनी दोस्त वीना के पास जाकर उसे सारी  बात बता  दी । फिर भालू ने वीना से उस हाथी को मारने का उपाय पूछा । ,"इससे पहले  की हम कोई भी फैसला करे , में अपने मित्र मेघनात मेंढक की भी सहला ले लू तो अच्छा रहेगा । मेरा वो दोस्त बहुत ही अक्ल मंद है । उस हाथी को मारने के लिए जरूर कोई आसान रिश्ता बता देगा । चीकू , भालू , वीना , तीनो मेघनात मेढंक के पास गए । उन लोगो की सारी  बात सुनकर मेघनात बोला , "  मेरे दिमाग में उसे मारने की एक बहुत ही आसान तरकीब आई है । " वीना बहिन सबसे पहले दोपहर के समय तुम हाथी के पास जा कर मधुर स्वर में एक कान में गुंजन करना । उसे सुनते ही वह आंनद से अपनी आंखे बंद कर लेगा । उसी समय भालू अपनी तीखी चोंच से उसकी दोनों आंखे फोड़ देगा । इस प्रकार वो हाथी अँधा होकर इधर-उधर भटकेगा । 

 

थोड़ देर बाद उसको प्यास लगेगी तब मैं खाई के पास जा कर अपने परिवार सहित जोर-जोर से टर-टर की आवाज करने लगूंगा । हाथी समझेगा की यह की ये आवाज तालाब से आ रही है । और फिर वो आवाज की तरफ बढ़ते बढ़ते सीधा खाई के पास आ जयेगा और उसमे गिर जयेगा और उसी खाई में पड़ा पड़ा मर भी जयेगा । उन सभी दोस्तों को मेघनात की सलाह बहुत पसंद आई । जैसा कहा था , वीना और भालू ने वेस ही किया । इस तरह छोटे-छोटे जीवो ने मिलकर अपनी अक्ल से हाथी जैसे बड़े जीव को मर गिराया और फिर से वो सब प्यार से रहने लगे   

 

 


Hot Posts

Related Posts